Wednesday, February 16, 2011

भीगी शाम

उस दिन किसी बात पर खिलखिला के हँसी थी मैं...कैम्पस में हरी दूब पर बैठे हम कुछ तो सपने बुन रहे होंगे, वो अपने सपनो में यकीन करने के दिन भी तो थे. तुमने कहा था...'हँसती रहा करो, अच्छी लगती हो...तुम्हारी हँसी तुम्हारी आँखों में नाच उठती है'. और मैंने यकीन किये बिना कहा था कि धूप के कारण ये सब दिखा है तुम्हें.
----
कुछ ही दिनों के बाद का एक दिन था तब...अचानक से किसी छोटी सी बात से दिल दुःख गया था...सूनी सड़क थी, पेवमेंट पर ही बैठ गयी थी, घुटनों में सर दिए...मुझे बस एक लम्हा अकेले में रोना था, फिर मैं खुद को सम्हाल लेती, आँसू भी आंखन में ही वापस ज़ज्ब हो जाते...तुम जाने कहाँ से उधर रास्ता भूल पड़े...तुम्हें उस दिन उधर नहीं आना था...मैंने सर उठा कर देखा था तुम्हें...तुम हड़बड़ाए बस इतना ही बोल पाए थे...'पता नहीं कहना चाहिए कि नहीं, तुम्हें पहले चुप कराना चाहिए...पर सच में, तुम्हारी रोती हुयी आँखें सबसे ज्यादा खूबसूरत लगती हैं'...और मैं तुम्हारी मासूमियत पर दिल थाम के रह गयी थी...हँस तो दी थी ही.
---
इन दोनों इत्तिफकों के बाद...रिश्ते का जितना अरसा गुजरा मैं हँसी कम और रोई ज्यादा...तुमसे प्यार करती थी, तुम्हारे साथ रहना पसंद था, मालूम है क्यों? क्योंकि तुम्हारे साथ थी तो मैं खूबसूरत थी ना...पनियाली, काजल बिखरी आँखों वाली लड़की...पागल, बिखरी लड़की.

42 comments:

चण्डीदत्त शुक्ल said...

uff!:)

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

भीगा हुआ सा वक्तव्य

मानसी said...

बहुत सुदर लिखती हैं आप पूजा।

विजय रंजन said...

सँजोयी हुयी यादों का पुलिंदा बारी ही खूबसूरती से खोला है आपने पूजा...बहुत अच्छा लिखती हैं आप...लिखती रहिए...दिल की आवाज़ का रंग कागज़ पे बिखेरने से जिंदगी पारिजात के फूलों सी खूबसूरत हो जाती है...

jr... said...

Good job done..
keep posting..

Ragini said...

dil mein utar gayi......

G.N.SHAW said...

लघु कथा बहुत कुछ कह दी ! बधाई हो !

Sonu said...

bahut kuchh kaha gaya hai..badhai

संजय भास्कर said...

पूजा जी जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं

संजय भास्कर said...

पूजा जी जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाएं

Gunjan Goyal said...

गज़ब है आपकी लेखनी ...बधाई

Rupesh said...

पुजा जी,मै आपका ब्लोग पढा, पढ कर अच्छा लगा, आप बहुत ही अच्छा लिखती हैं, मैं जानता हुँ अपने दिल कि बात जाहिर करना आसान काम नही हैं, और आप बहुत ही अच्छे तरिके से इसे जाहिर भी करती हैं. आशा है आप कुछ अपनी दिल की बात आगे भी लिखती रहेंगी.

kapil said...

Jai shri radhe-radhe,
Puja ji aap ka blog padh kar acha laga, pyar ki abhivyakti itne saral dhang se karna apke andar chipi kala ko darsata hai,so pls keep writting.

Dinesh pareek said...

मैने आपका ब्लॉग देखा बड़ा ही सुन्दर लगा बसु अफ़सोस यही है की मैं पहले क्यों नहीं आ पाया आपके ब्लॉग पे
कभी आपको फुर्सत मिले तो आप मेरे ब्लॉग पे जरुर पधारे
http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/
दिनेश पारीक

Vaneet Nagpal said...

पूजा जी,
नमस्कार,
आपके इस ब्लॉग को भी "सिटी जलालाबाद डाट ब्लॉगसपाट डाट काम" के "हिंदी ब्लॉग लिस्ट पेज" पर लिंक किया जा रहा है|

Mahendra Yadav said...

ऐसा कैसे लिख लेती हैं आप? भरी भीड़ में आपकी पंक्तियां पढ़ ले तो भी एकदम से तनहाई में चला जाए..अति सुंदर..

Mahendra Yadav said...

ऐसा कैसे लिख लेती हैं आप? भरी भीड़ में आपकी पंक्तियां पढ़ ले तो भी एकदम से तनहाई में चला जाए..अति सुंदर..

Mahendra Yadav said...

ऐसा कैसे लिख लेती हैं आप? भरी भीड़ में आपकी पंक्तियां पढ़ ले तो भी एकदम से तनहाई में चला जाए..अति सुंदर..

हास्य-व्यंग्य का रंग गोपाल तिवारी के संग said...

sundar rachna

जाट देवता (संदीप पवाँर) said...

ये ही तो जीवन है,

Arvind Kumar "Gaurav" said...

bahut achha likhti hai aap

मनीष कुमार ‘नीलू’ said...

यही तो जीवन पुष्प है कभी खिले तो कभी मुरझाना भी पड़ता है ! बहुत सुन्दर एवं कोमल एहसास को जीवंत कर गया ये आलेख !

मेरे ब्लॉग "जीवन पुष्प" पे आपका स्वागत है !
www.mknilu.blogspot.com

प्रेम सरोवर said...

आपके पोस्ट पर आना सार्थक सिद्ध हुआ । पोस्ट रोचक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है । धन्यवाद ।

Surendra shukla" Bhramar"5 said...

तुम्हारी रोती हुयी आँखें खूबसूरत ..पहले चुप कराना ..बहुत सुन्दर कहानी --प्रेम में सब कुछ करना पड़ता है ...
भ्रमर ५

SPIRIT OF JOURNALISM said...

आपका विचार समाज की भावना की अभिव्यक्ति है. हम आपको अपने National News Portal पर लिखने के लिये आमंत्रित करते हैं.
Email us : editor@spiritofjournalism.com,
Website : www.spiritofjournalism.com

commited to life said...

:):)
all smiles

'you don't love someone because she is beautiful, she is beautiful because you love her'

veerubhai said...

दिल से दिल की दो टूक बात कहने का अप्रतिम अंदाज़ है आपका पूजा जी .सुन्दर मनोहारी लेखन .

Amrita Tanmay said...

बढ़िया लिखा है .

Amrita Tanmay said...

बढ़िया लिखा है .

Suman said...

nice

रश्मि प्रभा... said...

ye pyaar hai...

शिवप्रिय आलोक (shiv sandilya) said...

awesome piece of writing....

***Punam*** said...

amazzing..........!!
nishabd hun...
ek saans mein sari rachnaayen padh dali...aur ek ek shabd aur ehsaas ko mahsoos bhi kiya...shayad aisa pahli baar hua hai kisi ko padh kar...!!
bas aur kya....!!!

mai ladki HINDUSTANI said...

BOHUT KHUB.....

Ojaswi Kaushal said...

Hi I really liked your blog.

I own a website. www.catchmypost.com Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
We publish the best Content, under the writers name.
I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well.
We have social networking feature like facebook , you can also create your blog.
All of your content would be published under your name, and linked to your profile so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will
remain with you. For better understanding,
You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

Link to Hindi Corner : http://www.catchmypost.com/index.php/hindi-corner

Link to Register :

http://www.catchmypost.com/index.php/my-community/register

For more information E-mail on : mypost@catchmypost.com

मुकेश पाण्डेय चन्दन said...

sidhe dil se .......

Mahi S said...

speechless

Madan Saxena said...

बेह्तरीन अभिव्यक्ति ,शुभकामनायें.
मैने आपका ब्लॉग देखा बड़ा ही सुन्दर लगा
कभी आपको फुर्सत मिले तो आप मेरे ब्लॉग पे जरुर पधारे
http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/

Anmol Sahu said...

ह्रदय स्पर्शी बाते लिखी हैं आपने। भाव विभोर हो गया।

मदन मोहन सक्सेना said...

बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी.बेह्तरीन अभिव्यक्ति!शुभकामनायें.
आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/

मदन मोहन सक्सेना said...

बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी.बेह्तरीन अभिव्यक्ति!शुभकामनायें.
आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/

JEEWANTIPS said...

sachmuch bahut sunder rachna hai aapki..